स्वतंत्रता दिवस अथवा पंद्रह अगस्त कब और क्यों मनाया जाता हैं?

स्वतंत्रता दिवस अथवा पंद्रह अगस्त कब और क्यों मनाया जाता हैं?

दोस्तों आज हम आपको ये बताने जा रहे है की 15 अगस्त क्यों मनाया जाता है आज इस दुनिया में कई लोग ऐसे है जिन्हे अभी तक ये नहीं पता की 15 अगस्त क्यों मनाया जाता है इस आजाद भारत में एक समय ऐसा था जब साल के 365 दिन त्यौहार मनाया जाता था लेकिन अब इस कलयुग में त्यौहारो की महत्व कम होता जा रहा है। 

लेकिन आज भी कई ऐसे त्यौहार है जिन्हे लोग अपने परिवार और अपने आस पास के लोगो के साथ मिलकर बड़े धूम धाम से त्यौहार मानते है जिसमे से एक त्यौहार स्वतंत्रता दिवस है जिस दिन भारत काफी सालो के बाद आजाद हुआ था। इस लेख के द्वारा में आपको ये बताऊंगा की 15 अगस्त अथवा (स्वतंत्रता दिवस) क्यों मनाया जाता है |

दुनिया भर के जितने भी त्यौहार भारत में मनाये जाते है उनकी हर  साल तारीख और महीना बदलती है। लेकिन स्वतंत्रता दिवस की कभी भी महीना और तारीख नहीं बदलती ये हमेशा 15 अगस्त को मनाया जाता है 

स्वतंत्रता दिवस दो शब्दो से मिलकर बना है जिनके अर्थ अलग अलग है जैसे “स्वतंत्रता” का अर्थ “आजादी” और “दिवस” का अर्थ “दिन” होता है 

School Children Will Not Be Included In Independence Day Celebrations - स्वतंत्रता दिवस समारोह में स्कूली बच्चों को नहीं किया जाएगा शामिल, विभाग ने जारी की गाइडलाइन | Patrika News
Source: patrika

15 अगस्त क्या है?

15 अगस्त वो दिन है जिस दिन भारत को पूण आजादी मिली थी इसी दिन को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है। अगर आपको ये लगता है की स्वतंत्रता दिवस को सिर्फ भारत में मनाया जाता है तो आप गलत सोच रहे है क्योकि एक समय ऐसा था जब कोई देश किसी न किसी देसा का गुलाम जरूर था लेकिन ये सच है की उन देश को जिस दिन आजादी मिली थी उसी दिन वो  अपनी आजादी का जश्न मानते है। जिस दिन भारत पूरी तरह आजाद हो गया था उसी दिन स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू बने। उसी दिन लाल किले पर इन्होने भारत का तिरंगा फराया था ये दिवस भारत के लिए देश भक्ति का दिवस माना जाता है |

जिस तरह पुरे भारत में अलग अलग त्यौहार मनाये जाते है बिलकुल उसी तरह से पुरे भारत में स्वंत्रता दिवस का माहौल बना होता है इसी दिन स्कूल कॉलेजो में लोग डांस, कॉमेडी, गाना आदि में भाग लेते है 

स्वतंत्रता दिवस कब मनाया जाता हैं?

अगर देखा जाये तो भारत में जितने भी त्यौहार मनाये जाते है उन सभी की तारीख ब्रिटिश कैलेंडर के अनुसार तय की जाती है। लेकिन स्वतंत्रता दिवस को उस दिन मनाया जाता है जिस दिन भारत को पूण आजादी मिल चुकी थी और ये दिन 8 महीने की 15 तारीख यानि 15 अगस्त को पुरे भारत में मनाया जाता है। 

इसे भी पढ़े:- दिवाली क्यों मनाई जाती है

भारत कब स्वंतंत्र हुआ था?

ब्रिटिश शासन ने भारत में लगभग 200 साल अपने कब्जे में कर रखा था इनसे आजादी दिलवाने के लिए भारत के कई भारतीय सेनानी ने अपनी जान भी गवा दी थी। जिसके चलते जब अंग्रेजो का काफी बहिस्कर होने लगा तो उन्हें लगने लगा की वो अब इस भारत में अपना शासन नहीं चला सकते तो इन्होने भारत को 15 अगस्‍त 1947 को पूण आजादी कर दिया था |

हम 15 अगस्त क्यों मानते हैं?

नेपाल देश के अलावा कुछ देश ऐसे है जिनपर कभी भी  किसी देश ने गुलाम नहीं बना पाया था। हर देश  पर किसी न किसी देश ने काफी सालो तक अपने कब्जे में रखा और उनपे काफी अत्याचार किये थे। ब्रिटिश एक ऐसा देश था जिसने काफी देशो को अपना गुलाम तो बनाया और साथ ही उनको पूरी तरह से कंगाल करने में लगा रहता था। 

ब्रिटिश से भारत को अपना गुलाम धीरे धीरे बनाया जब पहले वो ईस्ट इंडिया कंपनी की मदद से भारत में अपना व्यापार फैलाना चाहती थी लेकिन उसे अपना व्यापार फैलाने में काफी परेशानी आयी थी क्योकि उस समय भारत में मुग़ल शासको का राज था और मुग़ल इतने शक्तिसाली थे जितना आज हम कई देश मिला के पूरा कर पाएंगे। ऐसा मान लो की पूरी दुनिया की 25 % शक्ति इनके पास थी। 

फिर कुछ समय बाद मुगलो के कुछ शासको  ने अपने फायदे के लिए अंग्रेजो की भारत में व्यापार करने में उनकी सभी प्रकार की मदद करने लग गए। और फिर धीरे धीरे इनकी शक्ति कमजोर होने लग गयी एक समय ऐसा भी आया जब मुग़ल उनके मदद करने लगे तो अंग्रेजो ने  अपने व्यापार के साथ साथ उनको लौटने के बारे में भी सोचने लगे थे। 

वैसे तो ब्रिटिश भारत में अपना व्यापार करने के लिए भारत में आये थे लेकिन उन्होंने यहाँ की स्तिथि देखकर भारतीय लोगो पर सभी प्रकार के जुल्म करने लगे फिर कुछ सालो बाद यानि 1857 में इनके इस अत्याचार को रोकने के लिए एक क्रांति भी हुई थी जिसमे इन्होने कुछ हद तक अपनी जीत हासिल कर ली थी लेकिन फिर किसी कारणवश ये अपनी जीत हासिल करने में नाक़ामयाब रहे। 

हम 15 अगस्त या स्वंतंत्रता दिवस इसलिए मानते है क्योकि इसी दिन हमे अंग्रेजो से पूरी तरह से आजादी मिली थी। 

15 अगस्त से जुडी रोचक तथ्ये:- 

भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने 14 अगस्त की आधी रात को राष्ट्रपति भवन में एक ऐतिहासिक भाषण दिया था जिसे ‘ट्रिस्ट विद डेस्टनी’ के नाम से भी जाना जाता है। 

नेहरू ने प्रधानमंत्री बनाने से पहले जो भाषण दिया था उससे पूरी दुनिया ने सुना था लेकिन गाँधी जी जिन्हे राष्ट्रपिता कहा जाता है ये इनके इस भाषण को नहीं सुन पाए थे क्योकि ये इसी दिन दिन रात में जल्दी सो गए थे।

भारत को आजादी दिलाने में गाँधी जी ने काफी सहयोग किया था लेकिन जिस दिन भारत को आजादी मिली थी उस दिन गाँधी जी नहीं थे क्योकि वो कलकत्ता में हिन्दू मुसिलम के बीच हो रहे दंगे को सुलझाने के लिए अनशन पर बैठे हुए थे। 

जब हर जगह ये खबर फ़ैल गयी थी की 15 अगस्त को भारत पूरी तरह आजाद हो जयेगा तब नेहरू जी और वल्लभ भाई पटेल ने गाँधी जी के लिए एक खत लिखा की 15 अगस्त को भारत देश पूरी तरह से आजाद होने वाला है और अपने इसमें आजादी दिलाने के लिए अपनी बड़ी भूमिका निभाई थी कृपा करके वो इस जश्न में शामिल हो। 

निष्कर्ष:-

दोस्तों मुझे उम्मीद है की अपने ऊपर दिए गए लेख में जो कुछ भी पढ़ा है वो आपको पूरी तरह से पता चल गया होगा की 15 अगस्त क्यों मनाया  जाता है और हमे इस दिन को स्वतंत्रता दिवस के रूप में  मानते है। अगर आपके मन में अभी भी कुछ सवाल आ रहे है तो कृपा करके नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में अपने सवाल पूछ सकते है।


📣 Follow us to get Hindi News on Facebook and Twitter. Get Latest Update about भारत, and दुनिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 की थीम | 20 योग के जबरदस्त महत्व

Mon Jun 21 , 2021
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021 मानव जीवन में योगा का बहुत बड़ा महत्व | योगा मतलब […]
अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2021