Ch-2 | ग्लोब अक्षांश एवं देशांतर | NCERT 6th Class

Ch-2 | ग्लोब अक्षांश एवं देशांतर | NCERT 6th Class

ग्लोब अक्षांश एवं देशांतर

1) ग्लोब पृथ्वी का लघु रूप में वास्तविक  प्रतिरूप है|

2) पृथ्वी का  प्रतिरूप ग्लोब को देखने पर इसमें दो अक्ष आते हैं| ग्लोब का एक अक्ष उत्तरी ध्रुव कहलाती है और दूसरा अक्ष दक्षिणी ध्रुव  कहलाती है|

3) एक अन्य काल्पनिक रेखा भी ग्लोब को दो बराबर हिस्सों में बांटती है जिसको विश्वत रेखा या भूमध्य रेखा के नाम से जाना जाता है|

4) भूमध्य रेखा से लेकर उत्तरी  अक्ष तक उत्तरी गोलार्ध कहलाती है| जबकि भूमध्य रेखा से लेकर दक्षिणी अक्ष तक दक्षिणी गोलार्ध कहलाती है|

5) विषुवत वृत्त से लेकर ध्रुव तक जाने वाले सभी समानांतर रेखाओं को अक्षांश रेखाएं कहते हैं|

6) विषुवत वृत्त रेखा से लेकर उत्तरी अक्ष तक सभी समानांतर रेखाओं को उत्तरी अक्षांश तथा विश्वत रेखा से लेकर दक्षिणी अक्ष तक सभी समानांतर रेखाओं को दक्षिणी अक्षांश कहते हैं|

7) उत्तरी गोलार्ध में कर्क रेखा 23 1/2° उत्तर से गुजरती है यह एक प्रकार की अक्षांश रेखा होती है| जबकि दक्षिणी गोलार्ध में मकर रेखा एक प्रकार के अक्षांश रेखा है जो 23 1/2° दक्षिण से गुजरती है|

कर्क रेखा से विश्वत रेखा तक तथा मकर रेखा से विश्वत रेखा तक के बीच का जगह काफी गरम रहती है तथा यहां पर दिन में एक बार जरूर सिर पर धूप आती है जिसकी वजह से इसको उष्ण कटिबंध कहते हैं|

उत्तरी ध्रुव व्रत साडे 66 1/2° उत्तर में स्थित है जबकि दक्षिणी ध्रुव 66 1/2° दक्षिणी ध्रुव में स्थित है|

कर्क रेखा से लेकर उत्तरी ध्रुव व्रत  तथा मकर रेखा से दक्षिणी ध्रुव व्रत के बीच के जगह को शीतोष्ण कटिबंध कहते हैं|

उत्तरी ध्रुव व्रत से लेकर उतरी अक्ष तक तथा दक्षिणी ध्रुव व्रत से लेकर दक्षिण अक्ष तक को शीत कटिबंध कहते हैं| यह जगह काफी ठंड होती है|

पृथ्वी पश्चिम से पूर्व की दिशा में  गति करती है|

वैसे समय को मापने का सबसे अच्छा विकल्प हमारे पास पृथ्वी की गति सूर्य और चंद्रमा है| लेकिन इसके अलावा भी हम एक काल्पनिक रेखा जिसको देशांतर रेखा कहते हैं से भी समय का पता लगा सकते हैं|

दिशांतर को डिग्री में मापा जाता है 1 डिग्री देशांतर 4 मिनट के बराबर होता है|| जैसा कि हम जानते हैं कि गुजरात और अरुणाचल प्रदेश के समय में लगभग 2 घंटे का फर्क होता है ऐसा देशांतर रेखा की वजह से होता है क्योंकि इन दोनों के बीच में लगभग 30 डिग्री का अंतर होता है जो कि लगभग 120 मिनट यानी कि 2 घंटे के बराबर है|

भारत के बीच में एक याम्योत्तर रेखा (एक प्रकार की देशांतर रेखा) खींचे गए हैं जो 82.5° या 82 1/2° भारत के उत्तर प्रदेश में स्थित मिर्जापुर से होकर गुजरती है| इसको ही भारत का मानक समय मान लिया गया है|

82.5° अर्थात (82.5 * 4 या 330 मिनट या 5.5 घंटे) इसलिए आपने देखा होगा +5.5 GMT. इसका सीधा सा मतलब यह होता है की हमारा समय ग्रीनविच मीन टाइम से साडे 5 घंटे आगे होगा|

जिस देश का देशांतर बड़ा होता है वहां पर एक से ज्यादा मानक याम्योत्तर रेखाएं होती हैं जैसे रूस में 11 मानक याम्योत्तर रेखाएं||| पृथ्वी को एक 1 घंटे वाले 24 समय क्षेत्र में बांटा गया है अथवा 15 डिग्री के बाद एक नई याम्योत्तर रेखाएं बनाई जाती है|

Note:- देशांतर का इस्तेमाल समय का पता लगाने के लिए भी किया जाता है| यह पूरब से पश्चिम की तरफ होती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

Ch-3 |  पृथ्वी की गतियां | NCERT 6th Class

Thu Nov 4 , 2021
Ch-3 |  पृथ्वी की गतियां | NCERT 6th Class कक्षा छठी के पाठ्यपुस्तक भूगोल का […]