Content Management System (CMS) क्या है पूरी जानकारी हिंदी में

Content Management System (CMS) क्या है पूरी जानकारी हिंदी में

CMS की फुल फॉर्म होती है Content Management System| CMS यानी कि Content Management System क्या होते हैं यह कितने प्रकार के होते हैं| कौन सी वेबसाइट के लिए कौन सा CMS लेना चाहिए| कौन से CMS ज्यादा सिक्योर होते हैं| कौन सा Content Management System आसान होता है|

Content Management System (CMS) क्या है पूरी जानकारी हिंदी में
Content Management System (CMS) क्या है पूरी जानकारी हिंदी में | Source: Kinsta

अगर छोटे कंपनी है तो कौन सा Content Management System ले| बड़ी कंपनी के लिए कौन सा Content Management System चुने| यदि आपने WordPress, Joomla, Drupal जैसे बहुत सारे CMS देखे होंगे| इनमे से कौन सा अच्छा है और किस तरीके से आप किसी भी Content Management System का उपयोग कर सकते हो| आज हम इन सभी बातों को आज हम विस्तार से जानने वाले हैं|

Content Management System (CMS) क्या है?

Content Management System एक प्रकार का Software होता है जो आपकी Website में आपको Content डालने में आसानी करता है| यदि आप किसी भी प्रकार की Website चला रहे हैं तो आपको उसमें कंटेंट डालने के लिए एक सॉफ्टवेयर की जरूरत पड़ती है| जैसे दुनिया में सबसे ज्यादा WordPress यूज किया जाता है|

WordPress के माध्यम से आप वेबसाइट में कंटेंट डाल सकते हो| कंटेंट कई प्रकार के हो सकते हैं जैसे Images, Videos, Text, PDF इत्यादि| लेकिन किसी भी वेबसाइट में कंटेंट डालने के लिए आपको एक Dashboard की जरूरत पड़ती है| Dashboard जिससे कि आप वेबसाइट में बड़ी आसानी से कंटेंट डाल सकें| यह Dashboard आपको सीएमएस के द्वारा मिलता है|

यदि आप Joomla यूज कर रहे हो तो जुमला आपको अपना Dashboard देगा जहां से आप वेबसाइट में कंटेंट डाल सको|

इसी प्रकार यदि आप Drupal सीएमएस का इस्तेमाल कर रहे हो तो Drupal आपको अपना Dashboard देगा जिससे कि आप वेबसाइट में कंटेंट डाल सको|

आप अपना खुद का भी CMS बना सकते हो| लेकिन CMS  के लिए आपको काफी सारे Coding knowledge की आवश्यकता पड़ती है|

जैसे WordPress मैं आपको काफी चीजें configure करनी पड़ती है| लेकिन इसके लिए आपको कोडिंग करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि आपको बहुत सारे कोडिंग, Plugins के फॉर्म में मिल जाते हैं|

यदि आपको Website के लिए Theme चाहिए तो वह भी आपको Free में मिल जाती हैं| दुनिया में सबसे ज्यादा यूज किया जाने वाला CMS WordPress  है| क्योंकि यह आसान है, Secure है, और WordPress Website के लिए Plugins और  Theme उपलब्ध हो जाती है|


Related Link:

Search Engine क्या है हिंदी में पूरी जानकारी के साथ

वेब ब्राउजर (Web Browser) क्या है हिंदी में पूरी जानकारी?


 

Content Management System (CMS) का इतिहास

विश्व का सबसे पहला CMS FileNet था| FileNet कंपनी 1982 में बनाई गई थी| जिसने सन 1985 में पहला सीएमएस फाइलनेट (FileNet ) नाम का बनाया था| लेकिन अब यह कंपनी IBM द्वारा खरीद ली गई है|

सबसे ज्यादा यूज किया जाने वाला सीएमएस वर्डप्रेस (WordPress) है जो कि 27 मई 2003 में सबके सामने आया| WordPress की कोर लैंग्वेज PHP है| यह एक फ्री ओपन सोर्स सीएमएस (Open Source Platform) हे|

Joomla भी एक कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम है जो कि एक फ्री ओपन सोर्स (Open Source Platform) है इसका इस्तेमाल काफी लोग करते हैं| Joomla 17 अगस्त 2005 में हमारे सामने आया| Joomla की प्रोग्रामिंग लैंग्वेज पीएचपी (Programming Languages PHP) है|

Drupal भी एक फ्री ओपन सोर्स (Open Source Platform) सीएमएस है| Drupal की प्रोग्रामिंग लैंग्वेज पीएचपी (PHP)और जावास्क्रिप्ट (Javascript) है| यह ओपन सोर्स थोड़ा ज्यादा सिक्योर (Secure) है इसलिए इसका इस्तेमाल कंपनी करती है| लेकिन इस प्रकार के सीएमएस में आपको डेवलपर की जरूरत पड़ सकती है क्योंकि यहां पर कोडिंग की रिक्वायर्ड ज्यादा होती हैं|

Magento एक ई-कॉमर्स ओपन सोर्स प्लेटफॉर्म (E-commerce Open Source Platform) है जोकि PHP में लिखा गया है| Magento हमारे सामने 31 मार्च 2008 में आया था जिसकी को लैंग्वेज PHP है|

PrestaShop एक ओपन सोर्स इकॉमर्स प्लेटफॉर्म (E-commerce Open Source Platform) के लिए उपलब्ध है| PrestaShop एक Freemium Model पर काम करता है| जो आपको कुछ चीजें तो फ्री में यूज करने के लिए देता है यदि आप उससे ज्यादा चाहते हो तो आपको Paid Version लेना पड़ेगा| PrestaShop 31 जुलाई 2008 को हमारे सामने आया जिसकी को लैंग्वेज PHP है|

ऐसे यह बहुत सारे CMS आज हमारे सामने उपलब्ध हैं| यदि आप इन सभी के लिस्ट देखना चाहते हैं तो आप Wikipedia पर जाकर उनके लिस्ट दे सकते हैं इनकी लिंक मैंने नीचे दे दिया है| Source

How to install CMS for Website

सीएमएस यानी कि कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम को इंस्टॉल करना एक आसान काम है| क्योंकि यह सिर्फ वेबसाइट में कंटेंट डालने के लिए ही प्रयोग की जाती है तो इसके लिए आपको पास वेबसाइट का होना अनिवार्य है| यदि अभी तक आपके पास वेबसाइट नहीं है तो मैं आपको शुरुआत से बताता हूं|

सबसे पहले आपको डोमेन और होस्टिंग खरीदना है|

आप Domain और Hosting को खरीदने के बाद|

Domain आपको एक DNS देगा यानी कि डोमेन नेम सर्वर (Domain Name Server)| Domain Name Server को आप Hosting से merge करोगे| ऐसा करने से होस्टिंग आपको कई सारे CMS दिखाएगा|

जिसको आप अपने डिवाइस में install कर सकते हो| कुछ मुख्य CMS के नाम है WordPress, Joomla, Drupal, Preshtashop, Megento, इत्यादि है|

इसके बाद आप अपने अनुसार Theme, Plugins चुन लीजिए और फिर आप कंटेंट डालने के लिए तैयार हो|

यदि आप इसके बारे में और विस्तार से जानना चाहते हो तो आप हमें कमेंट में बताओ हम आपको इसके बारे में विस्तार से बताएंगे|

Terminology

Plugin

Plugin एक प्रकार की कोडिंग होती है जिसका इस्तेमाल आपको सिर्फ Install करने से हो जाता है|

उदाहरण के लिए मान लीजिए आपको Footer क्रिएट करना है और इसके लिए आपको कोडिंग बनाने हैं| इसके लिए आपको डेवलपर की जरूरत पड़ सकती है|

क्योंकि डेवलपर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में Footer की स्क्रिप्ट लिख सकता है|

लेकिन Plugins ने इस काम को बहुत आसान बना दिया है| Plugin एक ऐसी कोडिंग स्क्रिप्ट होती है जो कि पहले से ही बनाई गई होती है इसको सिर्फ आप को Install करना पड़ता है| Install करने के बाद आपको Activate करना पड़ता है जिससे कि यह आपकी Website पर ऑटोमेटिक अप्लाई हो जाती है|

Theme

आपने देखा होगा वेबसाइट की जो डिजाइनिंग होती है वह Theme के अनुसार होती है| यदि आप की Website की Theme आपको बदलनी है तो इसके लिए आपको Developer या Designer को Theme बनाने के लिए कहना पड़ेगा| लेकिन आजकल आपको Theme फ्री में मिल जाती है जो कि WordPress में ही नहीं बल्कि कई सारे CMS में अप्लाई हो सकती है|

यह Theme फ्री भी होती है और और Paid भी| इनका इस्तेमाल आप बड़ी आसानी से कर सकते हो इनमें Customization का Option होता है| इसके सहारे से आप Theme को अपने अनुसार भी Change कर सकते हो|

CMS

CMS की फुल फॉर्म होती है कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम जिसका इस्तेमाल आपकी वेबसाइट में कंटेंट डालने के लिए किया जाता है| इसके बारे में मैंने ऊपर आपको विस्तार से बताया है|

CDA

CDA कंटेंट डिलीवरी सिस्टम (Content Delivery System) कहलाता है सीडीएस (CDA) बैकएंड (Back-end) पर काम करता है जिसका मुख्य काम होता है कंटेंट को अपडेट करना| यदि आप किसी कंटेंट को डिलीट करना चाहते हो तो इसके लिए भी आपको CDA कंटेंट डिलीवरी सिस्टम का इस्तेमाल करना पड़ेगा|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

Domain Name क्या है और कैसे काम करता है पूरी जानकारी हिंदी में

Wed May 19 , 2021
Domain Name क्या है और कैसे काम करता है Domain Name क्या होता है और […]
Domain Name क्या है और कैसे काम करता है पूरी जानकारी हिंदी में