What is Search Engine in Hindi with Complete Information

What is Search Engine in Hindi with Complete Information

सर्च इंजन क्या होते हैं और यह कैसे काम करते हैं| सर्च इंजन कितने प्रकार के होते हैं इसका इतिहास क्या है| कौन सा सर्च इंजन सबसे बढ़िया है सर्च इंजन कैसे काम करता है| आज हम आपको सर्च इंजन से संबंधित सभी जानकारियों को आसान शब्दों में समझाने के लिए सरल भाषा में आपके लिए पोस्ट लेकर आए हैं|

What is Search Engine in Hindi with Complete Information
What is Search Engine in Hindi with Complete Information

इस आर्टिकल में आप सर्च इंजन से संबंधित सभी शब्दों को बड़े ही आसानी से जानोगे और इसमें हम आपको बताएंगे सर्च इंजन से संबंधित वह सभी जानकारी जो आपको पता होनी चाहिए| आप सभी जानते हो कि गूगल एक सर्च इंजन है और यह आपको बढ़िया रिजल्ट ला कर देता है| बहुत लोग सर्च इंजन को गॉड के नाम से भी बुलाते हैं क्योंकि सर्च इंजन आपको आपके सभी सवालों के जवाब देने की कोशिश करता है|

बहुत लोग गूगल को गूगल बाबा भी कहते हैं क्योंकि गूगल से उन्हें वह सभी जानकारी मिल जाती है जो वह किसी एक्सपर्ट से लेते| आज हम आपको सर्च इंजन के नाम बताएंगे और उनके अपने काम भी बताएंगे| यदि आप जॉब करना चाहते हो तो आपको सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन की जो बड़ी आसानी से मिल सकती है|

यदि आप सर्च इंजन के बारे में सही तरीके से जानते हैं तो| तो हमारी पूरी कोशिश रहेगी आपको सर्च इंजन के बारे में विस्तार से बताने की|और यदि हम आपको इसके बारे में विस्तार से बताते हैं और आपको पसंद आए तो हमारे पोस्ट को आप शेयर जरूर कीजिएगा|

सर्च इंजन क्या है

Search Engine एक प्रकार का Software होता है या Web Based टूल होता है जो कि आपको आपके Keyword के अनुसार आपके Browser में आपको रिजल्ट देता है| सर्च इंजन, Google, Yahoo, Baidu, Bing कुछ भी हो सकता है| इसमें आप कुछ Keywords डालते हो और फिर सर्च करते हो तो यह आपको अपने Database से रिजल्ट प्रोवाइड करता है|

Search Engine को काम करने के लिए Browswer और Internet की आवश्यकता पड़ती है| सर्च इंजन तभी काम करता है जब आपके पास ब्राउज़र होता है और ब्राउज़र में ही सर्च इंजन कार्य करता है|

उदाहरण के लिए यदि आप कुछ सर्च करते हैं और आप किसी भी सर्च इंजन जैसे कि गूगल में कुछ Keyword डालकर एंटर दबाते हैं| तो आपको Google आपके द्वारा डाले गए Keyword के अनुसार रिजल्ट ले कर देता है|

जहां Google आपको रिजल्ट प्रोवाइड करता है उसको सर्च इंजन रिजल्ट पेज (Search Engine Result Page) कहते हैं|

क्योंकि Google ने आपको एक क्रम (order) में रिजल्ट प्रोवाइड क्या है जिसको इंडेक्सिंग (Indexing) कहते हैं और यह गूगल ने अपने डेटाबेस से लाकर आपको उपलब्ध कराता है|

गूगल के डेटाबेस में डाटा कहां से आता है तो इसके लिए गूगल अपने Robots के सहारे सभी वेबसाइट को Crawling कर लेता है| यह एक continuous प्रोसेस है गूगल हमेशा आपके वेबसाइट को Crawling करते रहता है|

जब हम वेबसाइट बनाते हैं तब हम उस पर Robots.txt नाम की एक फाइल अपलोड कर देते हैं| Robots.txt फाइल का काम गूगल को यानी कि किसी भी सर्च इंजन को यह बताना होता है कि किसको आपको अपने एड्रेस में रखना है और किसको आपको अपनी डेटाबेस में नहीं रखना| यदि मैंने अपनी वेबसाइट में Robots.txt से गूगल के Crawler को Crawling करने के लिए मना कर दिया है| तो फिर गूगल चाह कर भी मेरी वेबसाइट को अपने सर्च इंजन रिजल्ट पेज (Search Engine Result Page) में नहीं दिखा सकता||

सर्च इंजन का इतिहास with तारीख

सबसे पहला सर्च इंजन Archie को माना जाता है जो कि 1990 में बनाया गया था|

फिर अगले साल यानी कि 1991 में Gopher नाम का सर्च इंजन बनाया गया जो अर्जी के जैसा ही था|

1993 में पहला वेब सर्च इंजन बनाया गया उसका नाम W3Catalog था|

1994 में Lycos सर्च इंजन बनाया गया|

1995 में Yahoo सर्च इंजन लॉन्च किया गया|

1996 में BackRub सर्च इंजन लॉन्च किया गया जो कि आगे चलके Google सर्च इंजन बना| इनके निर्माता लैरी पेज और सर्जे ब्रिन है|

1997 में Ask.COM नाम का एक सर्च इंजन सामने आया|

1999 में AllTheWeb सर्च इंजन सामने आया|

सन 2000 में चाइना ने भी अपना सर्च इंजन लॉन्च कर दिया जिसका नाम था Baidu|

2008 में DuckDuckGo नाम का सर्च इंजन सामने आया|

सर्च इंजन कैसे काम करता है

सर्च इंजन Crawling, Ranking, और Indexing की प्रक्रिया द्वारा कार्य करता है| सर्च इंजन सबसे पहले वेबसाइट के एचटीएमएल सोर्स कोड (Source Code) को Crawl करता है| उसके सोर्स कोड (Source Code) को Crawl करने के बाद उसको अपनी डेटाबेस में सेव कर लेता है| और फिर अपने डेटाबेस में वह उसकी इंडेक्सिंग Indexing भी कर लेता है|

जब सर्च इंजन पर कोई कीवर्ड डालकर सर्च करते हो| उसके बाद सर्च इंजन उस कीवर्ड के अकॉर्डिंग अपने डेटाबेस में इंडेक्स किए हुए डाटा ढूंढता है| यदि वह नहीं होता तो वह आपको नहीं दिखाता| यदि उस कीवर्ड से संबंधित उसके डेटाबेस में रिजल्ट होते हैं तो वह आपको दिखा देता है| क्योंकि उसके पास उससे संबंधित बहुत सारे रिजल्ट होते हैं| फिर सर्च इंजन उसको एक रैंकिंग वाइज रिजल्ट के अनुसार आपको दिखाता है| रैंक वाइज दिखाने के लिए सर्च इंजन का एल्गोरिथ्म काम करता है| और यह प्रक्रिया चलती रहती है|

यदि आप चाहते हो कि आप अपने वेबसाइट को सर्च इंजन पर ना दिखाओ तो इसके लिए आपको सर्च इंजन के क्रॉलर को Crawling के लिए मना करना पड़ेगा| आप यह काम बड़े आसानी से कर सकते हो, इसके लिए आपको Robots.txt नाम की एक फाइल को क्रिएट करना पड़ेगा| और उसमें आपको मना करना पड़ेगा| लेकिन यदि आप फाइल नहीं बनाते हो तो गूगल के सर्च इंजन आपके वेबसाइट को अपने आप ही अपने डेटाबेस में सेव कर लेंगे|

तो इस तरीके से सर्च इंजन काम करता है

सर्च इंजन और ब्राउजर में अंतर

सर्च इंजन और वेब ब्राउज़र में काफी बड़ा अंतर होता है| इन दोनों के बीच अंतर का अनुमान इस प्रकार से लगाया जा सकता है| सर्च इंजन को आप अपने डिवाइस में इंस्टॉल नहीं कर सकते जबकि Web Browser को आप अपने डिवाइस में इंस्टॉल कर सकते हो| एक ब्राउज़र में आप कई सारे सर्च इंजन इस्तेमाल कर सकते हो लेकिन एक सर्च इंजन में आप एक ही ब्राउज़र इस्तेमाल कर सकते हैं|

गूगल एक सर्च इंजन है, जबकि इसका एक अपना ब्राउज़र है जिसका नाम है क्रोम|

Bing एक सर्च इंजन है इसका एक अपना ब्राउज़र है जिसका नाम है माइक्रोसॉफ्ट एज|

इसी प्रकार मुख्य ब्राउज़र के नाम हैं; Safari, UC Browser, Opera, Chrome, इत्यादि|

मुख्य सर्च इंजन के नाम इस प्रकार है; Google , Bing, Yahoo, Yandex, Baidu, DuckDuckGo, इत्यादि|

Read More: Web Browser और Search Engine के बीच अंतर

सर्च इंजन और वेबसाइट में अंतर

सर्च इंजन और वेबसाइट दोनों का ही अपना एक डोमेन नेम होता है| दोनों का अपना ही एक DNS होता है| तथा वेबसाइट और सर्च इंजन दोनों का ही अपना ही है Ip-Address होता है| लेकिन इसके बावजूद भी इन दोनों में काफी बड़ा अंतर है|

जहां एक तरफ वेबसाइट का काम आपको इंफॉर्मेशन देना होता है| वही सर्च इंजन का काम आपको आपके बताएगा Keywords के अनुसार आपको वेबसाइट की लिस्ट प्रोवाइड करना है|

सर्च इंजन का अपना एक Database होता है जिसमें वह अपने Robot के द्वारा Crawl किए गए वेबसाइट की सूची रखती है| और सर्च इंजन आपके Keyword के अनुसार वेबसाइट की Ranking दे देती है|

सर्च इंजन की शब्दावली

सर्च इंजन की मुख्य शब्दावली कुछ इस प्रकार है|

Crawling

Crawling को सरल भाषा में समझने के लिए आप ऐसा समझिए जब सर्च इंजन यानी कि गूगल आपकी वेबसाइट के सोर्स कोड को स्कैन करता है और इसके सोर्स कोड को अपनी डेटाबेस में सेव कर लेता है| और यह स्कैन करने का कार्य सेव करने का कार्य गूगल के अपने खुद के Robots करते हैं| जिनको स्पाइडर, रोबोट्स जैसे नामों से जाना जाता है| और यह प्रक्रिया Crawling कहलाती है|

Indexing

जब गूगल अपने डेटाबेस में सेव कर लेता है तो इसको गूगल अपने एल्गोरिथ्म के अनुसार अपनी कैटेगरी में रख लेता है| गूगल की अपनी खुद की एक ऐसी कैटेगरी होती है जिसमें वह अपने रोबोट की मदद से सोर्स कोड को समझता है| उसके बाद उनको एक क्रम अनुसार लगा देता है| और यह प्रक्रिया Indexing कहलाती है|

Ranking

जब कोई Keyword गूगल सर्च इंजन पर सर्च करते हो तो उसके बदले में गूगल आपको कई सारे रिजल्ट प्रोवाइड करता है| यह रिजल्ट एक के नीचे एक Rankwise होते हैं| Ranking की प्रक्रिया के पीछे गूगल अपने एल्गोरिथ्म का इस्तेमाल करता है| गूगल के बहुत सारे एल्गोरिथ्म है जिसके सहारे से ही समझता है कि कौन से पेज को कौन सी रैंकिंग देनी है|

Robots/crawlers/spiders

सर्च इंजन के इन सभी प्रक्रिया चाहे वह Indexing हो, Crawling हो, या Ranking हो इन सभी के पीछे एक स्पाइडर का हाथ होता है| स्पाइडर को Robots, crawlers, spiders जैसे नामों से भी जाने जाते हैं|

Search Engine और उनके Robots की सूची

Google के Crawling के प्रक्रिया जिस Web Spider या Crawler या Robots के द्वारा की जाती है उस रोबोट का GoogleBot नाम है|

Bing के Crawling के प्रक्रिया जिस Web Spider या Crawler या Robots के द्वारा की जाती है उस रोबोट का Bingbot नाम है|

Yahoo के Crawling के प्रक्रिया जिस Web Spider या Crawler या Robots के द्वारा की जाती है उस रोबोट का Slurp Bot नाम है|

DuckDuckGo के Crawling के प्रक्रिया जिस Web Spider या Crawler या Robots के द्वारा की जाती है उस रोबोट का DuckDuckBot नाम है|

Baidu के Crawling के प्रक्रिया जिस Web Spider या Crawler या Robots के द्वारा की जाती है उस रोबोट का Baiduspider नाम है|

Yandex के Crawling के प्रक्रिया जिस Web Spider या Crawler या Robots के द्वारा की जाती है उस रोबोट का Yandex Bot नाम है|

Facebook के Crawling के प्रक्रिया जिस Web Spider या Crawler या Robots के द्वारा की जाती है उस रोबोट का Facebook external hit नाम है|

Amazon के Crawling के प्रक्रिया जिस Web Spider या Crawler या Robots के द्वारा की जाती है उस रोबोट का Alexa crawler नाम है|

Search Engine के प्रकार

सर्च इंजन कितने प्रकार के होते हैं तो सर्च इंजन तीन प्रकार के होते हैं|

Crawler Based सर्च इंजन

Crawler Based सर्च इंजन ऐसे सर्च इंजन के मुख्य प्रकार है बैंक गूगल याहू बायतु इत्यादि| ऐसे सर्च इंजन रोलिंग इंडेक्सिंग और अपने एल्गोरिथ्म के अनुसार काम करते हैं| जैसे गूगल है गूगल पर जब हम अपनी वेबसाइट को लिस्ट पर आते हैं तो गूगल इसको अपने अनुसार अपने Database में रख लेती है|

हम गूगल में यह नहीं कर सकते कि गूगल इसको कौन से कैटेगरी में रखना है| लेकिन हम अपनी वेबसाइट पर इस तरीके से ऑप्टिमाइज कर सकते हैं उनके Title में Description में Meta Description में URL में और Content, इत्यादि में हम कुछ Keyword डालकर वेबसाइट को इस तरीके से ऑप्टिमाइज कर सकते हैं जिससे कि गूगल को पता लग जाए कि यह किस बारे में|

जब हम वेबसाइट को ऑप्टिमाइज कर लेते हैं फिर सर्च इंजन के Crawler आकर आपकी वेबसाइट को Crawl करते हैं| जब Crawling की प्रक्रिया हो जाती है तब गूगल इसको अपने Database में रख लेता है| और जब कोई यूजर गूगल में Keyword डालकर सर्च करता है| तब गूगल अपने एल्गोरिथ्म का प्रयोग करके यूजर के द्वारा डाले गए Keyword के अनुसार रिजल्ट को रैंकिंग (Ranking) दे देता है|

2. डायरेक्टरी (Directory)

डायरेक्टरी क्या होती है| डायरेक्टरी एक प्रकार की सर्जन होती है जिसमें आपको इतनी परमिशन है कि आप अपने अनुसार कैटेगरी में डाल सकते हो| डायरेक्टरी एक प्रकार की सर्च इंजन होती है जो कि आपको कैटेगरी उपलब्ध कराती है और आप अपनी वेबसाइट को उन में बताए गए कैटेगरी के अनुसार डाल सकते हो| डायरेक्टरी के मुख्य प्रकार इस प्रकार है| DMOZ, Yahoo Direcotry, Viesearch, etc.

3. हाइब्रिड

हाइब्रिड यह एक ऐसा सर्च इंजन है जो Crawler Based सर्च इंजन और डायरेक्टरी का मिश्रण है| इस प्रकार के सर्च इंजन में आपको दोनों ही प्रकार के सर्च इंजन के गुण मिल जाते हैं| इसके मुख्य प्रकार हे Google, Yahoo|

Search Engine की गतिविधि कहां देखें

सर्च इंजन की गतिविधियों को देखने के लिए सर्च इंजन के द्वारा बनाया गया Webmaster Tool होता है| Webmaster Tool की सहायता से आप सर्च इंजन के द्वारा की गई एक्टिविटी को देख सकते हो| कुछ मुख्य Webmaster Tool के नाम है Google Search Console, Bing Webmaster Tool एंड Yandex Webmaster Tools|

जब आपको गूगल के क्रॉलर के द्वारा की गई एक्टिविटी को देखना है तो इसके लिए आप गूगल सर्च कंसोल का इस्तेमाल कर सकते हैं|

जब आपको Bingbot के द्वारा की गई एक्टिविटी को देखना है तो इसके लिए आप Bing Webmaster Tool का इस्तेमाल कर सकते हैं|

अक्सर पूछा गया सवाल

Que. सबसे पहला सर्च इंजन कौन सा है

Ans. सबसे पहला सर्च इंजन Archie को माना जाता है जो कि 1990 में बनाया गया था|

Que. सबसे ज्यादा उपयोग किया जाने वाला सर्च इंजन कौन सा है

Ans. सबसे ज्यादा उपयोग किया जाने वाला सर्च इंजन Google है

Que. गूगल के क्रॉलर को क्या कहते हैं

Ans. गूगल के क्रॉलर को Googlebot कहते हैं

Que. Robots.txt क्या होती है

Ans. जब हम वेबसाइट बनाते हैं तब हम उस पर Robots.txt नाम की एक फाइल अपलोड कर देते हैं| Robots.txt फाइल का काम गूगल को यानी कि किसी भी सर्च इंजन को यह बताना होता है कि किसको आपको अपने एड्रेस में रखना है और किसको आपको अपनी डेटाबेस में नहीं रखना| यदि मैंने अपनी वेबसाइट में Robots.txt से गूगल के Crawler को Crawling करने के लिए मना कर दिया है| तो फिर गूगल चाह कर भी मेरी वेबसाइट को अपने सर्च इंजन रिजल्ट पेज (Search Engine Result Page) में नहीं दिखा सकता||

Que. सर्च इंजन क्या है

Ans. Search Engine एक प्रकार का Software होता है या Web Based टूल होता है जो कि आपको आपके Keyword के अनुसार आपके Browser में आपको रिजल्ट देता है| सर्च इंजन, Google, Yahoo, Baidu, Bing कुछ भी हो सकता है| इसमें आप कुछ Keywords डालते हो और फिर सर्च करते हो तो यह आपको अपने Database से रिजल्ट प्रोवाइड करता है| Read More

निष्कर्ष

मैं आशा करता हूं मैंने आपको सर्च इंजन के बारे में सभी जानकारी उपलब्ध करा दी है| यदि आपको हमारी जानकारी अच्छी लगी है तो इसको आप शेयर करना बिल्कुल ना बोलिए और हमें कमेंट में बताना बिल्कुल ना भूलें|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

Content Management System (CMS) क्या है पूरी जानकारी हिंदी में

Tue May 18 , 2021
Content Management System (CMS) क्या है पूरी जानकारी हिंदी में CMS की फुल फॉर्म होती […]
Content Management System (CMS) क्या है पूरी जानकारी हिंदी में